होमआसपास-प्रदेशराजस्व मंत्री ने कोरबा कलेक्टर पर लगाये भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप

राजस्व मंत्री ने कोरबा कलेक्टर पर लगाये भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप

निर्माण कार्यों को लेकर आपस में ठनी: शासन और प्रशासन आये आमने-सामने

कोरबा (पब्लिक फोरम)। छत्तीसगढ़ के राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने कोरबा जिला कलेक्टर श्रीमती रानू साहू पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाए हैं। उन्होंने कहा है कि सड़क निर्माण के पैसे शासन से मिल गये हैं लेकिन कलेक्टर ने उसे अपने निजी स्वार्थ के कारण रोक रखा है। इतना ही नहीं राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने कलेक्टर के जीएसटी कमिश्नर पद पर रहते हुए भी भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि सड़क निर्माण के काम में अड़ंगा लगाया जायेगा तो हम सीएम से इसकी शिकायत करेंगे।

कलेक्टर रानू साहू पर भड़के राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल बुधवार 2 मार्च को दर्री में मेजर ध्यानचंद चौक से गोपालपुर तक प्रस्तावित टू लेन सड़क निर्माण और तहसील कार्यालय दर्री के भूमि पूजन कार्यक्रम में विधानसभा अध्यक्ष डॉ चरणदास महंत व मंत्री जयसिंह अग्रवाल शामिल हुए। इस कार्यक्रम में मीडिया से मुखातिब होते वक्त राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने कलेक्टर रानू साहू पर गंभीर आरोप लगाये। मंत्री ने कहा कि कलेक्टर जानबूझ कर निजी स्वार्थ के कारण सड़क जैसे विकास कार्य में अड़ंगा लगा रही हैं। इसे हम बर्दाश्त नहीं करेंगे। हम इसकी उच्च स्तरीय शिकायत करेंगे।

जिले के पश्चिम क्षेत्र की सड़कें काफी बदतर स्थिति में हैं। कुसमुंडा-इमलीछापर से तरदा तक सड़क का निर्माण कार्य एसईसीएल द्वारा दिये गए 172 करोड रुपए की लागत से किया जा रहा है लेकिन फंड की कमी के कारण 40 फीसद काम पूर्ति के बाद सड़क का काम बंद होने के कगार पर है। इसे लेकर इस सड़क का काम करने वाले ठेकेदार ने पीडब्लूडी विभाग से पत्राचार कर पैसे जारी करने को कहा है। जबकि कलेक्टर ने अब तक जारी किए गए 50 करोड़ रुपयों की उपयोगिता दर्शाने का आदेश दिया था। पश्चिम क्षेत्र के निवासियों के लिए यह सड़क बेहद महत्वपूर्ण है। इसे लेकर लंबे समय से आपस में ठनी है।

(देखें वीडियो)

सड़क निर्माण के कार्य अधूरे होने के सवाल पर राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल बिफरे। उन्होंने कहा कि उस सड़क के लिए एसईसीएल ने फंड जारी कर दिया है। कलेक्टर का उसमें कोई निजी स्वार्थ होगा। कलेक्टर उसमें कुछ अलग से चाहत रखती हैं। जिसके चलते काम को रोक कर रखा गया है। लेकिन वह ज्यादा दिन काम को नहीं रोक पाएंगी। ज्यादा दिन काम रोकेंगी तो उन्हें पछताना पड़ेगा। कलेक्टर श्रीमती रानू साहू पर भड़के राजस्व मंत्री ने यहां तक कहा कि उनका आचरण भ्रष्ट है। इस बात को लेकर जिले में व्यापक चर्चा है।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments