होमकोरबाकोविड-19 टीकाकरण के नाम पर BALCO में कर्मचारियों की चिकित्सा सेवा बंद:...

कोविड-19 टीकाकरण के नाम पर BALCO में कर्मचारियों की चिकित्सा सेवा बंद: ऐक्टू ने की निंदा

कहा, ऐसे अमानवीय कृत्यों पर तत्काल रोक लगाये वेदांता प्रबंधन

कोरबा (पब्लिक फोरम)। जिले के एल्यूमिनियम कारखाना भारत एल्युमिनियम कंपनी BALCO में काबिज VEDANTA प्रबंधन के द्वारा इन दिनों बालको के विभागीय चिकित्सालय में कोविड-19 टीकाकरण को कड़ाई के साथ कर्मचारियों में पालन कराए जाने के नाम पर कर्मचारियों का चिकित्सा सेवा को ही बंद कर देने का मामला पुनः गरमाने लगा है और इस बात को लेकर कर्मचारियों में काफी रोष व्याप्त है।

इधर बालको में कार्यरत श्रमिक संगठन एल्युमिनियम कामगार संघ ( संबद्ध: ऑल इंडिया सेंट्रल काउंसिल ऑफ ट्रेड यूनियंस -ऐक्टू ) ने वेदांता प्रबंधन के इस कार्य को अति संवेदनशील, गैर जिम्मेदाराना तथा पूर्णतः अमानवीय करार देते हुए कर्मचारियों की चिकित्सा सेवा सम्मानजनक ढंग से बहाल करने के लिए बालको के उप मानव संसाधन प्रमुख सुभादीप खां को पत्र लिखकर अनुरोध किया है। इसके साथ ही वेदांता प्रबंधन के द्वारा बार-बार किए जा रहे इस प्रकार की गंभीर श्रमिक विरोधी कार्यवाहियों के संबंध में शासन प्रशासन को भी अवगत कराया है।

इस संबंध में प्रबंधन को लिखे अपने पत्र में श्रमिक संगठन ऐक्टू ने प्रबंधन के द्वारा जारी किए गये एक पत्र का हवाला देते हुए कहा है कि आपके द्वारा जारी पत्र क्रमांक/के.बी./एच.आर.ई.आर./2021 दिनांक 15/11/2021 के माध्यम से बालको कर्मचारियों को कोरबा जिला प्रशासन के द्वारा जिले की विभिन्न निर्धारित स्थलों पर किए जा रहे कोविड-19 टीकाकरण शिविरों के आयोजन के संबंध में जानकारी देते हुए बालको कर्मचारियों को विभागीय चिकित्सालय में आयोजित शिविर में उपस्थित होकर कोविड-19 का टीकाकरण कराने के संबंध में अपील किया गया है। जिसका बालको कर्मचारियों ने बहुत ही उत्साह पूर्वक इस अभियान में शरीक होकर अपनी पूर्ण भागीदारी निभाई है।

किंतु बालको में गत वर्षों से यह देखने में आ रहा है कि नियमित कर्मचारियों अथवा सेवानिवृत्त कर्मियों के साथ प्रबंधन का कोई भी अंतर्विभागीय विवाद की स्थिति में अनुशासनात्मक कार्यवाही करने के नाम पर उनका बालको से चिकित्सा सेवा को ही तत्काल प्रभाव से बंद करवा दिया जा रहा है तथा कर्मचारियों को बताया जाता है कि ऐसा करने के लिए प्रशासन ने हमें निर्देशित किया है। कर्मचारियों की चिकित्सा सेवा व सुविधा समाप्त कर देने की स्थिति में स्वास्थ्य संबंधी आकस्मिक घटना या दुर्घटना घटित हो जाने के हालात में कर्मचारियों की जान जोखिम में पड़ जाती है और तत्काल चिकित्सा सेवा के अभाव में कई कर्मचारियों की तो असामयिक मृत्यु भी हो चुकी है।

वर्तमान में भी कोविड-19 के टीकाकरण अभियान को बालको कर्मचारियों पर सख्ती से पालन कराए जाने के नाम पर उनका चिकित्सा सेवा पूर्व की तरह ही बंद कर दिया जा रहा है। कर्मचारियों पर अनुशासनात्मक कार्यवाही करने के नाम पर प्रबंधन के द्वारा उठाया जा रहा यह कदम घोर अमानवीय है। अतः कर्मचारियों की चिकित्सा सेवा बंद करने संबंधी कार्रवाई पर तत्काल रोक लगाना न्यायोचित होगा। तथापि कर्मचारियों की चिकित्सा सेवा पर रोक लगाने के संबंध में कोई भी शासकीय सूचना अथवा प्रपत्र प्रबंधन के पास यदि कोई हो तो हमारे संघ को भी जनहित में उपलब्ध कराने की कृपा करेंगे।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments